Hum – Tum (हम तुम)

Hum – Tum

Hum Tum, they are the two words that define Interconnection of Souls. Read the below lines of love , companionship and Feelings…Getting used to the feeling of completeness is beautiful. We fight, we learn and we grow together with our companion that is what hum tum is all about.

Guys and girls out there should know this that everything is interrelated with each other. Someone or the other person is connected to someone or th other. This life in which we all are surviving is a web of interconnection. Interconnection of feelings,emotions,need and want. Do read the poem below and let me know your hum tum phase.

 

 

HUM TUM

 

 

छोटी छोटी खुशियों संग
दिल थामे बैठे है हम तुम
नाराज़ है यह ज़िंदगी
उदास बैठे है हम तुम

उन पल,उन यादों को
याद कर बैठे हम तुम
बाकि है जो दिल में
उसको भुला बैठे हम तुम

यादों के बक्सों को
चाभी लगा बैठे हम तुम
तेरे हसने रोने पर
हसना रोना भुला बैठे हम तुम

इस यारी को
मिटा बैठे हम तुम
बस लौट आने की उम्मीद से
पलके बिछा बैठे हम तुम

ज़िंदगी अधूरी है तुम बिन
यही लिखवा किस्मत से बैठे हम तुम
यादों की इस तिजोरी को
छुपा बैठे है हम तुम

बस बिछड़ने के ग़म को
दिल में पिघला बैठे है हम तुम

4 thoughts on “Hum – Tum (हम तुम)

  1. Rohit Sharma says:

    Fabulous my junior….. Wow its literally amazing….

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up