एक जहान : Pyaar

Pyaar

Love is in the Pyaar. Akhir hota kya hai ? kyu hota hai ? kisliye hota hai? Kabhi socha hai pyaar mein hum aksar aisi- aisi chezein kar jatey jo humne apne sapno mein bhi nhi  socha hoga. Yeh ek painting hai jisko dunia ka har ek shaksh banana chahata hai par har koi uss painting ko dhang se bna nhi pata. apke nazariye mein pyaar kya hai ?

Love is a boundation which we want to break in every manner. It is a philosophy of mankind and its wy to express their feelings for someone. It is a sense of belonging to someone. It not only makes us weak at tie but also a strongest person at times.

 

pyaar

 

बादलों ऊपर एक जहां है ऐसा ,
ज़िक्र ना करना एक जहां है ऐसा …
वक़्त ने ली एक उलटी सी करवट, 
जो पाना चाहा कभी …
पा ना सके हम कभी ..
एकलौते सपने को मिटा ना सके हम कभी !
मिटने ना दूंगी इन् ख्वाबों को कभी !
वक़्त के इस दरियाँ में ,
चलना है हमें अभी …
चला आया यह दिल अपना सुरूर लेके, 
मोहोबत की एक नयी पहचान लेके …
इश्क़ सिर्फ तुमने किया,
मोहोबत करनी सिखाई तुमको हमने कभी …
जीने का नज़रियाँ बनाया ,
तुम्हे हमने कभी ..
अब वक़्त के इस उलटे पहिये को भी ,
सीधा चलना सीखाएंगे हम कभी …

 

4 thoughts on “एक जहान : Pyaar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up